सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रुद्र चण्डी कवचम् || श्रीरुद्रचण्डी कवचम् ||

 ।। श्रीरुद्रचण्डी कवचम् ।।


           पूर्वपीठिका-


श्रीकार्तिकेय उवाच-

कवचं चण्डिकादेव्याः श्रोतुमिच्छामि ते शिव! ।

यदि तेऽस्ति कृपा नाथ! कथयस्व जगत्प्रभो ! ।।


श्रीशिव उवाच-

श‍ृणु वत्स  प्रवक्ष्यामि चण्डिकाकवचम् शुभम्।

भुक्तिमुक्तिप्रदातारमायुष्यं सर्वकामदम्।।

दुर्लभं सर्वदेवानां सर्वपापनिवारणम्।

मन्त्रसिद्धिकरं  पुंसां ज्ञानसिद्धिकरं  परम्।।


विनियोगः -


श्रीरुद्र चण्डिकाकवचस्य

श्रीभैरव ऋषिः,

अनुष्टुप्छन्दः,

श्रीचण्डिका देवता,

चतुर्वर्गफलप्राप्त्यर्थं पाठे विनियोगः।।


ऋष्यादि न्यासः -


श्रीभैरव ऋषये नमः शिरसि।

अनुष्टुप्छन्दसे नमः मुखे।

श्रीचण्डिकादेवतायै नमः हृदि।

चतुर्वर्गफलप्राप्त्यर्थं पाठे विनियोगाय नमः सर्वाङ्गे।।


        अथ  कवचस्तोत्रम्-


चण्डिका मेऽग्रतः पातु आग्नेय्यां भवसुन्दरी।

याम्यां पातु महादेवी नैरृत्यां पातु पार्वती।।


वारुणे चण्डिका पातु चामुण्डा पातु वायवे।

उत्तरे भैरवी पातु ईशाने पातु शङ्करी।।


पूर्वे पातु शिवा  देवी ऊर्ध्वे पातु महेश्वरी।

अधः पातु सदाऽनन्ता मूलाधार निवासिनी।।


मूर्ध्नि पातु महादेवी ललाटे च महेश्वरी।

कण्ठे कोटीश्वरी पातु हृदये नलकूबरी।।


नाभौ कटिप्रदेशे च पायाल्लम्बोदरी सदा।

ऊर्वोर्जान्वोः सदा पायात् त्वचं मे मदलालसा।।


ऊर्ध्वे पार्श्वे सदा पातु भवानी भक्तवत्सला।

पादयोः पातु मामीशा सर्वाङ्गे विजया सदा।।


रक्त मांसे महामाया त्वचि मां पातु लालसा।

शुक्रमज्जास्थिसङ्घेषु गुह्यं मे भुवनेश्वरी।।


ऊर्ध्वकेशी सदा पायान् नाडी सर्वाङ्गसन्धिषु।

ॐ ऐं ऐं ह्रीं ह्रीं चामुण्डे स्वाहामन्त्रस्वरूपिणी।।


आत्मानं मे सदा पायात् सिद्धविद्या दशाक्षरी।

इत्येतत् कवचं देव्याश्चण्डिकायाः शुभावहम्।।


           फलश्रुति 


गोपनीयं प्रयत्नेन कवचं सर्वसिद्धिदम्।

सर्वरक्षाकरं धन्यं न देयं यस्य कस्यचित्।।


अज्ञात्वा कवचं देव्या यः पठेत् स्तवमुत्तमम्।

न तस्य जायते सिद्धिर्बहुधा पठनेन च।।


धृत्वैतत् कवचं देव्या दिव्यदेहधरो भवेत्।

अधिकारी भवेदेतच्चण्डीपाठेन साधकः।।


।। इति श्रीरुद्रयामलतन्त्रे श्रीशिवकार्तिकेयसंवादे

रुद्रचण्डीकवचम् सम्पूर्णं शिवं भूयात् ।।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मातंगी साधना समस्त प्रकार के भौतिक सुख प्रदान करती है maa matangi

माँ मातंगी साधना :  आप सभी को मेरा नमस्कार, आज मैं इस पोस्ट के माध्यम से आप सब को 9वी  महाविद्या माँ मातंगी की साधना के बारे में अवगत कराने का प्रयास करूँगा. मां के भक्त जन साल के किसी भी नवरात्री /गुप्त नवरात्री /अक्षय तृतीया या किसी भी शुभ मुहूर्त या शुक्ल पक्ष में शुरु कर सकते हैं. इस साल 2021 में गुप्त नवरात्री,  12 फरवरी 2021 से है,  मां को प्रसन्न कर सकते हैं और जो भी माँ मातंगी की साधना करना चाहते है, जो अपने जीवन में गृहस्थ समस्याओं से कलह कलेश आर्थिक तंगी ओर रोग ,तंत्र जादू टोना से पीड़ित है वो मां मातंगी जी की साधना एक बार जरूर करके देखे उन्हें जरूर लाभ होगा ये मेरा विश्वास है। मां अपने शरण में आए हुए हर भक्त की मनोकानाएं पूर्ण करती है।ये साधना रात को पूरे 10 बजे शुरू करे।इस साधना में आपको जो जरूरी सामग्री चाहिए वो कुछ इस प्रकार है।   मां मातंगी जी की प्रतिमा अगर आपको वो नहीं मिलती तो आप सुपारी को ही मां का रूप समझ कर उन्हें किसी भी तांबे या कांसे की थाली में अष्ट दल बना कर उस पर स्थापित करे ओर मां से प्रार्थना करे के मां मैं आपको नमस्कार करता हूं आप इस सुपारी को अपना रूप स्व

गजेन्द्र मोक्ष स्त्रोत gajendra moksha in hindi

  गजेन्द्र मोक्ष स्त्रोत:  गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र का  का वर्णन श्रीमद्भागवत के अष्टम स्कंध के तीसरे अध्याय में  दिया गया है. इस स्तोत्र में कुल तैतीस श्लोक हैं इस    गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र  में ग्राह के साथ गजेन्द्र के युद्ध का वर्णन किया गया है, जिसमें गजेन्द्र ने ग्राह के मुख से छूटने के लिए श्री हरि विष्णुजी की स्तुति की थी और प्रभ श्री हरि विष्णुजी ने गजेन्द्र की पुकार सुनकर उसे ग्राह से मुक्त करवाया. गजेन्द्र मोक्ष का माहात्म्य बतलाते हुए कहा गया है कि इस  गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र को   समस्त पापों का नाश करने वाला  कहा गया है. गजेन्द्र मोक्ष स्त्रोत के लाभ गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र का  प्रतिदिन स्मरण करने मात्र से व्यक्ति के जीवन में आने वाले समस्त संकट दूर हो जाते हैं तथा उसके मुक्ति का मार्ग खुल जाता है . इस स्त्रोत का पाठ साधक को बड़े से बड़े संकट से भी उबार देता है. जब भी इस स्त्रोत का पाठ करे पहले अपने  समस्त विध्नो का ध्यान करे और फिर भगवान श्री हरि विष्णु जी के चरणों में घी का दीपक  जलाकर  इस स्त्रोत का जाप शुरू कर दे. सच्चे और पवित्र मन एवं श्रद्धा भाव से किया गजेन्द्र

दुर्गा सप्तशती पाठ 4 चतुर्थ अध्याय || by geetapress gorakhpur ||p

 ॥ श्री दुर्गा सप्तशती ॥ चतुर्थोऽध्यायः इन्द्रादि देवताओं द्वारा देवी की स्तुति ॥ध्यानम्॥ ॐ कालाभ्राभां कटाक्षैररिकुलभयदां मौलिबद्धेन्दुरेखां शड्‌खं चक्रं कृपाणं त्रिशिखमपि करैरुद्वहन्तीं त्रिनेत्राम्। सिंहस्कन्धाधिरूढां त्रिभुवनमखिलं तेजसा पूरयन्तीं ध्यायेद् दुर्गां जयाख्यां त्रिदशपरिवृतां सेवितां सिद्धिकामैः॥ सिद्धि की इच्छा रखनेवाले पुरुष जिनकी सेवा करते हैं तथा देवता जिन्हें सब ओर से घेरे रहते हैं, उन ‘जया ’ नामवाली दुर्गादेवी का ध्यान करे । उनके श्रीअंगों की आभा काले मेघ के समान श्याम है । वे अपने कटाक्षों से शत्रुसमूह को भय प्रदान करती हैं । उनके मस्तक पर आबद्ध चन्द्रमा की रेखा शोभा पाती है । वे अपने हाथों में शंख, चक्र, कृपाण और त्रिशूल धारण करती हैं । उनके तीन नेत्र हैं । वे सिंह के कंधेपर चढ़ी हुई हैं और अपने तेज से तीनों लोकोंको परिपूर्ण कर रही हैं । "ॐ" ऋषिरुवाच*॥१॥ शक्रादयः सुरगणा निहतेऽतिवीर्ये तस्मिन्दुरात्मनि सुरारिबले च देव्या। तां तुष्टुवुः प्रणतिनम्रशिरोधरांसा वाग्भिः प्रहर्षपुलकोद्‌गमचारुदेहाः॥२॥ ऋषि कहते हैं - ॥१॥ अत्यन्त पराक्रमी दुरात्मा महिषासुर तथा उसक