सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Uttarakhand bhulekh online UK land records उत्तराखंड भूमि की जानकारी

Uttarakhand bhulekh online : आज हम बात इस लेख के माध्यम से Uttarakhand land records, भूमि नक्शा और खाता खतौनी नकल केसे निकालें online पर बात करेंगे. अब कंप्युटर का समय होने के कारण प्रदेश के सभी ज़िलों का land records online कर दिया गया है. अब आप Uttarakhand bhulekh online की सुविधा को बड़ी ही आसानी से घर बेठे प्राप्त कर सकते हैं. यह सारी सुविधाएं, चाहे जमीन का नक्शा हो, खसरा संख्या या फिर खाता खतौनी नकल हो आप सभी अधिकारिक पोर्टल - Uttarakhand bhulekh पर देख सकते हैं. सारी जानकारी प्राप्त करने के लिए लेख को अंत तक देखे.

दोस्तों अब आप computer या smartfon पर बस कुछ ही click पर ही अपनी जमीन की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. भू नक्शा प्राप्त कर सकते हैं, भू नक्शा, जमीन का नक्शा होता है, जिसमें अन्य चीजे जैसे जमीन का प्रकार, खातेदार का विवरण आदि उपस्थित होता है. Online जमीन के रिकॉर्ड की जानकारी लेने के लिए, उत्तराखंड सरकार ने UK bhulekh portal की शुरुआत की है. इस पोर्टल पर पूरी पारदर्शिता के साथ आवेदक को जमीन की पूरी जानकारी जैसे - खाता खतौनी नकल, ख़सरा संख्या, भू - नक्शा की जानकारी आदि उपलब्ध करायी जाती है.


online सुविधा के क्या लाभ है.... 

*  घर बैठे बैठे जमीन की जानकारी अब ऑनलाइन ही मिल जाएगी. 

* आपको बार - बार पटवारी या तहसील के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे. 

*  आपके कीमती समय की बचत होगी. 

*  आपके एक Click पर घर बैठे हुए  आपकी जमीन से जुड़ी         पूरी जानकारी    मिल जाएगी. 


Online खाता खतौनी कैसे प्राप्त करे..


ऑनलाइन खाता खतौनी के लिए यहां click करे... 

                           ⬇️

  Uttarakhand bhulekh (उत्तराखंड भू लेख) 


*  Step 1- सबसे पहले Uttarakhand land record portal (Uttarakhand Bhulekh, उपर दिए गए link पर Click करे) पर जाए. 


Step 2 - ऊपर दिए गए लिंक पर क्लिक करते ही एक नया पेज खुल जाएगा, इस पेज मे आप अपने जिले और तहसील का चुनाव करे,  इसके बाद दिए गए शब्दों में से अपने गाँव का चयन करे. 


Step 3 - उम्मीद है आपने अपने जिले, तहसील और गाँव का चयन ठीक से कर दिया होगा. इसके बाद आपके सामने नया पेज खुल जाएगा. इस पेज मे आप अपनी जमीन के खाते संख्या या फिर खाते दार के नाम से खतौनी के उद्धरण देख ले और चेक कर ले कि यह सही है, (कभी-कभी एक नाम के कए लोग होने के कारण हम कहीं किसी और की खतौनी नकल ना निकाल ले) सही है तो आप online pdf farmet में download कर सकते हैं. 

यह काफी कुछ इस प्रकार दीखती है - 


आशा करता हू कि इस लेख के माध्यम से आप ऑनलाइन खाता खतौनी नकल की जानकारी प्राप्त कर सके होंगे. 




उत्तर प्रदेश वाले यहां क्लिक करें - Click Here ⬅️








टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मातंगी साधना समस्त प्रकार के भौतिक सुख प्रदान करती है maa matangi

माँ मातंगी साधना :  आप सभी को मेरा नमस्कार, आज मैं इस पोस्ट के माध्यम से आप सब को 9वी  महाविद्या माँ मातंगी की साधना के बारे में अवगत कराने का प्रयास करूँगा. मां के भक्त जन साल के किसी भी नवरात्री /गुप्त नवरात्री /अक्षय तृतीया या किसी भी शुभ मुहूर्त या शुक्ल पक्ष में शुरु कर सकते हैं. इस साल 2021 में गुप्त नवरात्री,  12 फरवरी 2021 से है,  मां को प्रसन्न कर सकते हैं और जो भी माँ मातंगी की साधना करना चाहते है, जो अपने जीवन में गृहस्थ समस्याओं से कलह कलेश आर्थिक तंगी ओर रोग ,तंत्र जादू टोना से पीड़ित है वो मां मातंगी जी की साधना एक बार जरूर करके देखे उन्हें जरूर लाभ होगा ये मेरा विश्वास है। मां अपने शरण में आए हुए हर भक्त की मनोकानाएं पूर्ण करती है।ये साधना रात को पूरे 10 बजे शुरू करे।इस साधना में आपको जो जरूरी सामग्री चाहिए वो कुछ इस प्रकार है।   मां मातंगी जी की प्रतिमा अगर आपको वो नहीं मिलती तो आप सुपारी को ही मां का रूप समझ कर उन्हें किसी भी तांबे या कांसे की थाली में अष्ट दल बना कर उस पर स्थापित करे ओर मां से प्रार्थना करे के मां मैं आपको नमस्कार करता हूं आप इस सुपारी को अपना रूप स्व

गजेन्द्र मोक्ष स्त्रोत gajendra moksha in hindi

  गजेन्द्र मोक्ष स्त्रोत:  गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र का  का वर्णन श्रीमद्भागवत के अष्टम स्कंध के तीसरे अध्याय में  दिया गया है. इस स्तोत्र में कुल तैतीस श्लोक हैं इस    गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र  में ग्राह के साथ गजेन्द्र के युद्ध का वर्णन किया गया है, जिसमें गजेन्द्र ने ग्राह के मुख से छूटने के लिए श्री हरि विष्णुजी की स्तुति की थी और प्रभ श्री हरि विष्णुजी ने गजेन्द्र की पुकार सुनकर उसे ग्राह से मुक्त करवाया. गजेन्द्र मोक्ष का माहात्म्य बतलाते हुए कहा गया है कि इस  गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र को   समस्त पापों का नाश करने वाला  कहा गया है. गजेन्द्र मोक्ष स्त्रोत के लाभ गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र का  प्रतिदिन स्मरण करने मात्र से व्यक्ति के जीवन में आने वाले समस्त संकट दूर हो जाते हैं तथा उसके मुक्ति का मार्ग खुल जाता है . इस स्त्रोत का पाठ साधक को बड़े से बड़े संकट से भी उबार देता है. जब भी इस स्त्रोत का पाठ करे पहले अपने  समस्त विध्नो का ध्यान करे और फिर भगवान श्री हरि विष्णु जी के चरणों में घी का दीपक  जलाकर  इस स्त्रोत का जाप शुरू कर दे. सच्चे और पवित्र मन एवं श्रद्धा भाव से किया गजेन्द्र

आदित्य हृदय स्तोत्र aditya hardy stotra

  आदित्य ह्रदय स्तोत्र संपूर्ण पाठ...      ततो युद्धपरिश्रान्तं समरे चिन्तया स्थितम्‌ ।  रावणं चाग्रतो दृष्ट्वा युद्धाय समुपस्थितम्‌ ॥1॥ दैवतैश्च समागम्य द्रष्टुमभ्यागतो रणम्‌ ।  उपगम्याब्रवीद् राममगस्त्यो भगवांस्तदा ॥2॥ राम राम महाबाहो श्रृणु गुह्मं सनातनम्‌ ।  येन सर्वानरीन्‌ वत्स समरे विजयिष्यसे ॥3॥   आदित्यहृदयं पुण्यं सर्वशत्रुविनाशनम्‌,    जयावहं जपं नित्यमक्षयं परमं शिवम्‌ ॥4॥   सर्वमंगलमागल्यं सर्वपापप्रणाशनम्‌ ।       चिन्ताशोकप्रशमनमायुर्वर्धनमुत्तमम्‌ ॥5॥   रश्मिमन्तं समुद्यन्तं देवासुरनमस्कृतम्‌ ।  पुजयस्व विवस्वन्तं भास्करं भुवनेश्वरम्‌ ॥6॥ सर्वदेवात्मको ह्येष तेजस्वी रश्मिभावन: ।  एष देवासुरगणांल्लोकान्‌ पाति गभस्तिभि: ॥7॥ एष ब्रह्मा च विष्णुश्च शिव: स्कन्द: प्रजापति: ।  महेन्द्रो धनद: कालो यम: सोमो ह्यापां पतिः ॥8॥ पितरो वसव: साध्या अश्विनौ मरुतो मनु: ।  वायुर्वहिन: प्रजा प्राण ऋतुकर्ता प्रभाकर: ॥9॥ आदित्य: सविता सूर्य: खग: पूषा गभस्तिमान्‌ ।  सुवर्णसदृशो भानुर्हिरण्यरेता दिवाकर: ॥10॥   हरिदश्व: सहस्त्रार्चि: सप्तसप्तिर्मरीचिमान्‌ ।  तिमिरोन्मथन: शम्भुस्त्