सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

श्रीराम दुर्गस्तोत्रम्

 ।। अथ श्रीरामदुर्गस्तोत्रम् ।।


ॐ अस्य श्रीरामदुर्गस्तोत्रमन्त्रस्य कौशिकऋषिरनुष्टुप्छन्दः

श्रीरामो देवता रां बीजं नमः शक्ति।

रामाय कीलकम् श्रीरामप्रसादसिद्धिद्वारा मम सर्वतो

रक्षापूर्वकनानाप्रयोगसिध्यर्थे श्रीरामदुर्गमन्त्रस्य पाठे विनियोगः।


ॐ ऐं क्लीं ह्रीं रीं चों ह्रीं रीं चों ह्रीं श्रीं आं क्रौं

ॐ नमोभगवते रामाय मम सर्वाभीष्टं साधय साधय फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ रामाय नमः।।


ॐ नमो भगवते रामाय मम प्राच्यां ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल निर्धनं

सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं ॐ लं लक्ष्मणाय नमः।


ॐ नमो भगवते लक्ष्मणाय मम याम्यां ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

मां रक्ष रक्ष सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ भं भरताय नमः।


ॐ नमो भगवते भरताय मम प्रतीच्यां ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ शं शत्रुघ्नाय नमः।


ॐ नमो भगवते शत्रुघ्नाय मम उदीच्यां ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ जानक्यै नमः।


ॐ नमो भगवते मे ऐशान्यां ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ सुं सुग्रीवाय नमः।


ॐ नमो भगवते सुग्रीवाय ममाग्नेय्यां ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ विं विभीषणाय नमः।


ॐ नमो भगवते विभीषणाय मम नैरृत्यां ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ वं वायुसुताय नमः।


ॐ नमो भगवते वायुसुताय मम वायव्यां ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ मं महावीरविष्णवे नमः।


ॐ नमो भगवते महाविष्णवे मम ऊर्ध्वं ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ नृं नृसिंहाय नमः।


ॐ नमो भगवते नृसिंहाय मम मध्ये ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ वं वामनाय नमः।


ॐ नमो भगवते वामनाय मम अधो ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं ॐ कं केशवाय नमः।


ॐ नमोभगवते केशवाय मम सर्वतः ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ मं मर्कटनायकाय नमः।


ॐ नमो भगवते मर्कटनायकाय मम सर्वदा ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल

निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ कं कपिनाथाय कपिपुङ्गवाय नमः।


ॐ नमो भगवते कपिपुङ्गवाय मम चतुर्द्वारं सदा ज्वल ज्वल

प्रज्वल प्रज्वल निर्धनं सधनं साधय साधय मां रक्ष रक्ष

सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट् स्वाहा।।


ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं रां रीं चों ह्रीं श्रीं आं क्रौं

ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ॐ नमो भगवते रामाय सर्वाभीष्टं साधय साधय

हूं फट् स्वाहा।।


।। इति श्रीरामदुर्गस्तोत्रं सम्पूर्णम् ।।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मातंगी साधना समस्त प्रकार के भौतिक सुख प्रदान करती है maa matangi

माँ मातंगी साधना :  आप सभी को मेरा नमस्कार, आज मैं इस पोस्ट के माध्यम से आप सब को 9वी  महाविद्या माँ मातंगी की साधना के बारे में अवगत कराने का प्रयास करूँगा. मां के भक्त जन साल के किसी भी नवरात्री /गुप्त नवरात्री /अक्षय तृतीया या किसी भी शुभ मुहूर्त या शुक्ल पक्ष में शुरु कर सकते हैं. इस साल 2021 में गुप्त नवरात्री,  12 फरवरी 2021 से है,  मां को प्रसन्न कर सकते हैं और जो भी माँ मातंगी की साधना करना चाहते है, जो अपने जीवन में गृहस्थ समस्याओं से कलह कलेश आर्थिक तंगी ओर रोग ,तंत्र जादू टोना से पीड़ित है वो मां मातंगी जी की साधना एक बार जरूर करके देखे उन्हें जरूर लाभ होगा ये मेरा विश्वास है। मां अपने शरण में आए हुए हर भक्त की मनोकानाएं पूर्ण करती है।ये साधना रात को पूरे 10 बजे शुरू करे।इस साधना में आपको जो जरूरी सामग्री चाहिए वो कुछ इस प्रकार है।   मां मातंगी जी की प्रतिमा अगर आपको वो नहीं मिलती तो आप सुपारी को ही मां का रूप समझ कर उन्हें किसी भी तांबे या कांसे की थाली में अष्ट दल बना कर उस पर स्थापित करे ओर मां से प्रार्थना करे के मां मैं आपको नमस्कार करता हूं आप इस सुपारी को अपना रूप स्व

गजेन्द्र मोक्ष स्त्रोत gajendra moksha in hindi

  गजेन्द्र मोक्ष स्त्रोत:  गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र का  का वर्णन श्रीमद्भागवत के अष्टम स्कंध के तीसरे अध्याय में  दिया गया है. इस स्तोत्र में कुल तैतीस श्लोक हैं इस    गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र  में ग्राह के साथ गजेन्द्र के युद्ध का वर्णन किया गया है, जिसमें गजेन्द्र ने ग्राह के मुख से छूटने के लिए श्री हरि विष्णुजी की स्तुति की थी और प्रभ श्री हरि विष्णुजी ने गजेन्द्र की पुकार सुनकर उसे ग्राह से मुक्त करवाया. गजेन्द्र मोक्ष का माहात्म्य बतलाते हुए कहा गया है कि इस  गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र को   समस्त पापों का नाश करने वाला  कहा गया है. गजेन्द्र मोक्ष स्त्रोत के लाभ गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र का  प्रतिदिन स्मरण करने मात्र से व्यक्ति के जीवन में आने वाले समस्त संकट दूर हो जाते हैं तथा उसके मुक्ति का मार्ग खुल जाता है . इस स्त्रोत का पाठ साधक को बड़े से बड़े संकट से भी उबार देता है. जब भी इस स्त्रोत का पाठ करे पहले अपने  समस्त विध्नो का ध्यान करे और फिर भगवान श्री हरि विष्णु जी के चरणों में घी का दीपक  जलाकर  इस स्त्रोत का जाप शुरू कर दे. सच्चे और पवित्र मन एवं श्रद्धा भाव से किया गजेन्द्र

आदित्य हृदय स्तोत्र aditya hardy stotra

  आदित्य ह्रदय स्तोत्र संपूर्ण पाठ...      ततो युद्धपरिश्रान्तं समरे चिन्तया स्थितम्‌ ।  रावणं चाग्रतो दृष्ट्वा युद्धाय समुपस्थितम्‌ ॥1॥ दैवतैश्च समागम्य द्रष्टुमभ्यागतो रणम्‌ ।  उपगम्याब्रवीद् राममगस्त्यो भगवांस्तदा ॥2॥ राम राम महाबाहो श्रृणु गुह्मं सनातनम्‌ ।  येन सर्वानरीन्‌ वत्स समरे विजयिष्यसे ॥3॥   आदित्यहृदयं पुण्यं सर्वशत्रुविनाशनम्‌,    जयावहं जपं नित्यमक्षयं परमं शिवम्‌ ॥4॥   सर्वमंगलमागल्यं सर्वपापप्रणाशनम्‌ ।       चिन्ताशोकप्रशमनमायुर्वर्धनमुत्तमम्‌ ॥5॥   रश्मिमन्तं समुद्यन्तं देवासुरनमस्कृतम्‌ ।  पुजयस्व विवस्वन्तं भास्करं भुवनेश्वरम्‌ ॥6॥ सर्वदेवात्मको ह्येष तेजस्वी रश्मिभावन: ।  एष देवासुरगणांल्लोकान्‌ पाति गभस्तिभि: ॥7॥ एष ब्रह्मा च विष्णुश्च शिव: स्कन्द: प्रजापति: ।  महेन्द्रो धनद: कालो यम: सोमो ह्यापां पतिः ॥8॥ पितरो वसव: साध्या अश्विनौ मरुतो मनु: ।  वायुर्वहिन: प्रजा प्राण ऋतुकर्ता प्रभाकर: ॥9॥ आदित्य: सविता सूर्य: खग: पूषा गभस्तिमान्‌ ।  सुवर्णसदृशो भानुर्हिरण्यरेता दिवाकर: ॥10॥   हरिदश्व: सहस्त्रार्चि: सप्तसप्तिर्मरीचिमान्‌ ।  तिमिरोन्मथन: शम्भुस्त्